Results for बाल कविता

चूहा,जंगल में मंगल

बदलाव मंच अगस्त 09, 2020
 बाल कविताऐं        *चूहा* लुकते-छिपते धीरे धीरे । बार-बार आता चूहा ।। कपड़ों के अंदर घुस जाता।  कुतर-कुतर करता चूहा।। जब तक नहीं पकड़ा जाता। ...Read More
चूहा,जंगल में मंगल चूहा,जंगल में मंगल Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 09, 2020 Rating: 5

वर्षा रानी

बदलाव मंच जुलाई 25, 2020
बाल कविता'  वर्षा रानी' वर्षा रानी, ओ! वर्षा रानी। टिप-टिप करता तेरा पानी।। याद आती हमें नानी। पीते हम जब ठंडा पानी।। पे...Read More
वर्षा रानी वर्षा रानी Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 25, 2020 Rating: 5

सज धज कर राजा चुहा चला

बदलाव मंच जुलाई 18, 2020
सज धज कर राजा चुहा चला ----------------------------- सज धज कर राजा चुहा चला, चूहों संग मिलकर बारात, संग संग कुछ चुहिया चली, संग संग चूहों के...Read More
सज धज कर राजा चुहा चला सज धज कर राजा चुहा चला Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 18, 2020 Rating: 5

जिंदगी नहीं होगी बैड

बदलाव मंच जुलाई 14, 2020
        "जिंदगी नहीं होगी बैड" ए, बी, सी, डी, कभी न पियो बीड़ी। इ, एफ, जी, एच, बच्चों बोलो सदा सच। आई, जे, के, एल, पढ़ने...Read More
जिंदगी नहीं होगी बैड जिंदगी नहीं होगी बैड Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 14, 2020 Rating: 5

बादल

बदलाव मंच जुलाई 12, 2020
बाल कविता - बादल  कभी जो थे मासूम से सूने-सूने बादल अब दिखा रहे तरह-तरह के रंग बादल || झमा-झम-झम झड़ी लगा रहे | तड़ा-तड़-तड़ बिजली चमका रहे ...Read More
बादल बादल Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 12, 2020 Rating: 5

चुहिया की चूड़ी

बदलाव मंच जुलाई 11, 2020
चुहिया की चूड़ी चुहिया रानी ठुमक - ठुमक कर* मेला देखने जाएगी।* पहन ली जूती, फ्रॉक पहन कर* लाली होंठो लगायेगी।* पापा से सौ रुपये माँगकर* और चू...Read More
चुहिया की चूड़ी चुहिया की चूड़ी Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 11, 2020 Rating: 5

बाल कविता-बादल

बदलाव मंच जुलाई 11, 2020
बाल कविता - बादल  कभी जो थे मासूम से सूने-सूने बादल अब दिखा रहे तरह-तरह के रंग बादल || झमा-झम-झम झड़ी लगा रहे | तड़ा-तड़-तड़ बिजली चमका रहे ...Read More
बाल कविता-बादल बाल कविता-बादल Reviewed by बदलाव मंच on जुलाई 11, 2020 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.