Results for दीपक क्रांति जी के द्वारा अद्वित्य व्यंग रचना#बदलाव मंच#

जनवादी साहित्य # दीपक क्रांति जी के द्वारा अद्वित्य व्यंग रचना#

प्रकाश कुमार सितंबर 05, 2020
मुक्तक :- 1)उनकी ज़ुल्फ़ों के तसव्वुर में रुबाई लिखता हूँ..  लोग न मानें तो क्या सच्चाई लिखता हूँ..  हूँ बेबाक कि कड़वे-करेले भी बो...Read More
जनवादी साहित्य # दीपक क्रांति जी के द्वारा अद्वित्य व्यंग रचना# जनवादी साहित्य # दीपक क्रांति जी के द्वारा अद्वित्य व्यंग रचना# Reviewed by प्रकाश कुमार on सितंबर 05, 2020 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.