Results for जितेन्द्र विजयश्री पाण्डेय "जीत"

अनोखा बंधन ही तो रक्षाबंधन है

बदलाव मंच अगस्त 16, 2020
शीर्षक - अनोखा बंधन ही तो रक्षाबंधन है प्यार का असली प्रतिमान है, बहन का जो अभिमान है। बहन भाई का मान है, अनोखा बंधन ही तो रक्षाबंधन है।। सर...Read More
अनोखा बंधन ही तो रक्षाबंधन है अनोखा बंधन ही तो रक्षाबंधन है Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 16, 2020 Rating: 5

शायरी

बदलाव मंच अगस्त 16, 2020
मशहूर होने में न जाने कितना वक़्त लगता है, मग़रूर होने के लिए तो महज़ चंद मिनट काफ़ी है। *मशगूल* होने में न जाने कितना कुछ त्याग करना पड़ता है, म...Read More
शायरी शायरी Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 16, 2020 Rating: 5

हे कृष्ण कहो न कि कब आओगे

बदलाव मंच अगस्त 16, 2020
#लेख  शीर्षक: हे कृष्ण कहो न कि कब आओगे। जिस दौर से समूचा देश गुज़र रहा है न वह आने वाली नस्लों के लिए बेहद भयावह और चिंताजनक है। वयस्क महिला...Read More
हे कृष्ण कहो न कि कब आओगे हे कृष्ण कहो न कि कब आओगे Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 16, 2020 Rating: 5

कान्हा आज तेरा जन्मदिन है

बदलाव मंच अगस्त 16, 2020
बदलाव मंच श्री कृष्णजन्मोत्सव शीर्षक - कान्हा आज तेरा जन्मदिन है कान्हा आज तेरा जन्मदिन है, लोगों की सोच है वर्ना तू तो सब दिन है। तेरी रासल...Read More
कान्हा आज तेरा जन्मदिन है  कान्हा आज तेरा जन्मदिन है Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 16, 2020 Rating: 5
बदलाव मंच अगस्त 15, 2020
ये बदलाव की तो महज़ शुरुआत है। यहाँ तो न जाने कितने पुरोधाओं की ज़मात है। इतना बुलंदी पे पहुंचाएंगे इस मंच को मिलकर दोस्तों कि लोग भी कह उठेंग...Read More
Reviewed by बदलाव मंच on अगस्त 15, 2020 Rating: 5
Blogger द्वारा संचालित.