गुरुवार, 8 अप्रैल 2021

सुभाष चौरसिया हेम बाबू जी द्वारा विषय होली पर जीजा साली संवाद#

भाषा -- बुन्देली 
 विधा -- फाग
 # होली पर जीजा साली संवाद #
जीजा अबे  रंग न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेंयें हों बारो
जीजा अबे  रंग न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेयें हों बारो
थपकी दे दे तनिक सुबा देयों
फिर पलना में पौढा़ देयों
फिर कर हों तुम्हाओ मूं कारो
जीजा अबे  रंग न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेंयें हों बारो
जीजा तनकउ न माने
बारे खां छुडा़कें पलना में पारो
जीजा को जिया मतवारो
सारी  खां रंग सारो
अंचरा में लेयों हों बारो
जीजा  रंग अबे न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेयों हों बारो
जीजा ने भर पिचकारी मारी
सराबोर कर दई साली की सारी
तनकउ न मानो हुरयारो
अंचरा में लेयों हों बारो
जीजा अबे  रंग न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेयों हों बारो
फिर सारी हुरयानी
कलसा में भर लाई पानी
ऊ में तूतिया रंग डारो
जीजा मूं कर दओ कारो
अंचरा में लेयों हों बारो
जीजा  रंगअबे न डारो
अबे रंग न डारो
अंचरा में लेयों हों बारो 
सारी ने पिचकारी मारी 
 जीजा  की सगली सकल बिगारी
भूल गये जीजा हुरयारो
अंचरा में लेंयें हो बारो
जीजा अबे रंग न डारो
 अबे रंग न डारो
आंचर में लेयें हो बारो
रचना कार --सुभाष चौरसिया हेम बाबू महोबा (काका जी) 
स्वरचित मौलिक सर्वाधिकार सुरक्षिसारी रंग सा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें