मंगलवार, 2 फ़रवरी 2021

चंचल हरेंद्र वशिष्ट जी द्वारा अद्वितीय रचना#

"2021"
चलो मनाएँ नववर्ष
सभी के संग सहर्ष
नव उमंग,तरंग लिए
जीवन में हो उत्कर्ष

ख़त्म हो अब संघर्ष
सबके मन में हो हर्ष
स्थापित करें अभी
नव जीवन आदर्श

जानो तभी नववर्ष
सब मिलें जो सहर्ष
ईर्ष्या,द्वेष सब मिटे 
बढ़े मान और यश

बैर और अपकर्ष
रहेंगे नहीं इस वर्ष
आस और विश्वास
जीतेंगे इस बरस

चलो मनाएँ नववर्ष!
चलो मनाएँ नववर्ष!

नववर्ष की मंगलकामनाएँ

चंचल हरेंद्र वशिष्ट

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें