शनिवार, 23 जनवरी 2021

भास्कर सिंह माणिक, कोंच जी द्वारा खूबसूरत रचना#

मंच को नमन
राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय बदलाव मंच
साप्ताहिक काव्य/ काव्य गद्य प्रतियोगिता
दिनांक -29दिसम्बर ,2020-से05-01-2021तक

दिनांक-01-01-2021
विधा-कविता
विषय- नया साल,नए संकल्प

नव छंद रचे
नव ग्रंथ लिखें
नववर्ष की बेला में
सुखमय अनुबंध लिखें

कुछ सीख अतीत की ले हम
दीप प्रीति के ले हम
नया साल के स्वागत में
संकल्प नीति के ले हम
सद्भाव संबंध लिखें
नव गीत रचे
नव ग्रंथ लिखें

धैर्य न छोड़े अपना 
साकार करें हर सपना
जो आया है जाना निश्चित
कर्तव्य निभाएं अपना
नूतन इतिहास रचे
नव ग्रंथ लिखें

अपना चमन सजाना 
इस को समृद्ध बनाना 
सूरज रोज निकलता
तम से क्या घबराना
नव बंध्य रचे
नव ग्रंथ लिखें

व्यर्थ कभी सताना मत
मां का दूध लजाना मत
पूरा संकल्प न हो जब तक
पीछे कदम हटाना मत
नव नीति रचे
नव ग्रंथ लिखें

गत को बिसराना मत
आगत को  ठुकराना मत
आन बान शान वतन की रखना
बवंडर को शीश झुकाना मत
नव राह रचे
नव ग्रंथ लिखें

    --------------
मैं घोषणा करता हूं कि यह रचना मौलिक स्वरचित है।
         भास्कर सिंह माणिक, कोंच

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें