शुक्रवार, 29 जनवरी 2021

बदलाव मंच द्वारा 26 जनवरी पर गूगल मीट के माध्यम से कविता सह गीत सम्मेलन का रंगारंग कार्यक्रम


बदलाव मंच द्वारा 26 जनवरी पर गूगल मीट के माध्यम से कविता सह गीत सम्मेलन का रंगारंग कार्यक्रम

चंदवा/गुमला/रावतभाटा,
राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय बदलाव मंच संस्थापक सह मार्गदर्शक दीपक क्रांति व अध्यक्षा रूपा व्यास ने बताया कि 26 जनवरी रात्रि 8:30 बजे बदलाव मंच के पदाधिकारियों व वीडियो काव्य प्रतियोगिता के विजेता प्रतिभागियों व विशेष आमंत्रित कविगण के लिए गूगल मीट पर काव्य सह गीत सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें सभी ने देशभक्ति गीत व कविता के माध्यम से समा बांध दिया। दीपक क्रांति व रूपा व्यास द्वारा मधुर स्वर व काव्यात्मक रूप से संचालन का कार्य किया गया। दीपक क्रांति ने 26 जनवरी का महत्व पर प्रकाश डाला तथा 'जब जीरो दिया मेरे भारत ने', 'संदेशे आते हैं' आदि गीत अपने मधुर स्वर में प्रस्तुत किए जिस पर सभी श्रोता मस्ती में झूम उठे। 'यह भारत देश' कविता स्वप्निल जैन द्वारा, गरिमा विनीत भाटिया द्वारा 'भारत माता की मिट्टी', 'आओ मिलकर गणतंत्र दिवस मनाए', 'लहर लहर लहराए तिरंगा' रंजना बिनानी द्वारा 'विश्व में परचम लहराया था' हिरल कवलानी द्वारा,'पहले हम हिंदुस्तानी' भास्कर सिंह माणिक कोंच  द्वारा,  'राष्ट्र भारत' राजेश तिवारी मक्खन-द्वारा, 'अनुशासन में कर्तव्य निभाना है' रमेश चंद्र भाट द्वारा 'रिमझिम-रिमझिम' सतीश लाखोटिया  द्वारा, 'बरकरार रहने दो हसीन भारत को' डॉ. सुनील परीट ,वीर रस पर आधारित कविता चंद्र प्रकाश गुप्ता द्वारा ,अभिषेक सिंह तोमर,नन्दिता रवि चौहान,कल्पना सिंह भदौरिया,सुदिती पंत,डॉ. मलकप्पा महेश सुखदेव टेलर, गीता पांडे,सुनील दत्त मिश्रा,डॉ.रेखा मंडलोई,अनिता पांडेय द्वारा देशभक्ति पर आधारित काव्य रचना प्रस्तुत करते हुए संदेश  प्रेषित किया गया।
    इस अवसर पर बदलाव मंच उपाध्यक्ष रूपक क्रांति,रूपेश कुमार,मुमताज हसन,एल.एस, तोमर,नंदन मिश्र,सुधा तिवारी तथा मोहिनी भाट भी उपस्थित थे।
     रात 12 बजे तक पूरे जोश और जूनून के साथ चले इस अभूतपूर्व कार्यक्रम के अंत में संस्थापक दीपक
क्रांति व अध्यक्षा रुपा व्यास द्वारा सभी पदाधिकारियों व प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें