बुधवार, 2 दिसंबर 2020

कवि डॉ.राजेश कुमार जैन द्वारा 'माँ' विषय पर रचना

सादर समीक्षार्थ
  सायली छंद


1 --               माँ
                  धरा पर 
               प्रभु का अवतार
                     जान लो 
                        तुम।

 2 -                  माँ
                   की बराबरी 
                  कौन कर सका
                     तीनों लोक 
                            में। 

3      -          माँ 
                तेरे चरण 
              पुनीत धाम, करो
                   स्वीकार मेरा
                          प्रणाम।

 4    -              बेटी 
                   होती सदा
                  बेटों से बढ़कर
                     रखो याद 
                          तुम। 

5  -                     ईश्वर
                       का वरदान
                       होती है बेटी
                         खूब प्यार 
                                दो।

6  -                      ईश्वर 
                         की अमानत
                            है बेटी तो
                           भेद  न 
                               करो।

 7   -                      पुत्र 
                          के बिना
               रहता त्योहार सूना
                        बहन रहती
                            उदास।

 8      -                   भाई 
                      रहता निराश
                        बिना बहन के
                              घर होता
                             सुनसान।

 9  -                          दोनों
                          पुत्र-  पुत्री
                  करते पूर्ण परिवार
                          तुम भी
                            मानों।

 10    -                एक
                         दूजे के
                पूरक होते दोनों
                    पुत्र-  पुत्री
                         सदा।

 11 -                  पुत्र
                  होता कुलदीपक
                      मात-पिता का
                       प्रमुख सहारा
                               भी ।

12  -                    पिता
                      होता वटवृक्ष
                समान, परिवार का
                       पालनहार भी 
                                वही।

13 -                        पिता
                          पालन कर्ता
                   दुख हरता सबके
                        परिवार की
                            नैया ।

14 -                    बेटी 
                         बेटों से
                  बढ़कर होती सदा
                       देख लो
                            तुम ।

15 -               कोरोना 
                     से जीना
                 दुश्वार, करो प्रभु
                      तुम   ही
                      कल्याण।

 16  -                   होती
                       नितदिन जंग  
                     कोरोना पापी से
                      विजयी   होता
                         विश्वास ।

17 -                   विद्यालय
                          प्रवेश से
                      होता सदा ही
                   पुनर्जन्म विद्यार्थी
                                 का।

 18  -               विद्यालय
                    विद्या  मंदिर
                ज्ञानदायिनी का है
                    शाश्वत धाम
                            यह।

 19 -                विद्यालय 
                       जन सहयोग
                        से ही पुष्पित
                      पल्लवित होता
                               सदा।

20  -                   शीतऋतु
                     मुस्कुराने लगी
                    नित जवां होती
                     घायल करती
                            सबको।

 21  -                शीत
                  पहले लुभाती
           मनभाती बहलाती थी
                     अब  है 
                       डसती।




 डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें