बुधवार, 2 दिसंबर 2020

डॉ. राजेश कुमार जैन जी द्वारा खूबसूरत रचना#

सादर समीक्षार्थ
सायली छंद
 
1   -          देखो
            यह कोरोना
           लौट आया फिर
                मजाक न 
                   समझो 

2   -               कोरोना
                     है  घातक
              नियम पालन करो
                 अन्यथा, बहुत
                पछताओगे 

 3   -             कोरोना 
                 से सावधान 
                 सभी लोग रहो
                    निर्मोही है
                         यह 

4  -               कोरोना
               से  सावधान
                 रहो बचाव में 
                  ही  बचाव
                          है 
                      

5  -                 अपनी
                  सुरक्षा करो
                 खुद  ही सब   
                 लापरवाही मत
                          करो

  6    -             लाखों 
                   जानें लेली
              कोरोना निर्दयी ने
                       बचो  इससे
                          सभी
 
7  -                 कोरोना ?
                      यह   पापी 
                    तो हजारों घर  
                        कर चुका
                           बर्बाद

 8   -                    बड़ा
                         ही दुष्ट 
                       और निर्दयी है
                           यह पापी
                             कोरोना

9  -                      दया 
                       नहीं   करता
                        जरा भी यह
                           लेता प्राण
                                सदा 

10   -                     चंगुल 
                       में जकड़ता
                        यह तो अपने
                      निरीह, लाचार
                          लापरवाह

11  -                    सभी
                        लोग रहो
              इससे सदा सावधान
                   मौका देख
                        झपटता

 12  -                  नहीं
                     छोड़ता किसी
                      को भी यह
                     बाँटता मौत
                         सबको

13  -                       क्रूर
                       राक्षस   यह
            बहुत है अत्याचारी
                   इससे सभी 
                         बचो 

14  -                   अंतिम
                     लक्ष्य  इसका
                      जान ले लेना
                           जिद्दी बड़ा
                                   है 

15  -                      सभी 
                            रहो दूरी
             बनाकर इससे, तभी
                     बचेंगे  प्राण
                           तुम्हारे

 16   -                  हाथ
                      धोते रहो
    सैनिटाइजर, मास्क  प्रयोग
                 करो तभी
                      बचोगे 

17 -                करो
                      खुद को
                    बंद घर में 
                   तभी बचोगे
                          तुम

18  -                  जीवन 
                        से  मोह
                यदि है, लापरवाही
                         त्याग दो
                            तुम

 19   -                 विश्वास
                    करो, विजय
                 तभी तुम्हें मिलेगी
                    जब सावधानी
                          रखोगे 
 
20  -                 दृढ़
                संकल्प  केवल
                     मूल मंत्र है
                    कोरोना से
                        बचो

 21 -         आत्मघातक
              होती  लापरवाही
              तथ्य बताते यही
                     सदा तो
                          हमें



 डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें