शुक्रवार, 11 दिसंबर 2020

कवयित्री गीता पाण्डेय द्वारा शीर्षक हिंदी के विकास में हिंदी बोलियों का योगदान विधा निबंध

अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय बदलाव मंच को नमन
शीर्षक हिंदी के विकास में हिंदी बोलियों का योगदान
 विधा निबंध


प्रस्तावना
              हिंदी शब्द फारसी भाषा से लिया गया है हिंदी हमारी एक सशक्त एवं समृद्धि भाषा है यह सभी भाषाओं को आत्मसात करके चलने वाली भाषा है। हिंदी भाषा को अग्रसारित करने में हिंदी बोलियों का प्रमुख योगदान रहा है ।

हिंदी की उपभाषाये 
                          हिंदी की विभिन्न भाषाएं हैं हम उन भाषाओं तथा उनके अंतर्गत बोली जाने वाली  बोलियों की जानकारी इस प्रकार करेंगे जो निम्न है।
1   पश्चिमी हिंदी*  इस उपभाषा के अंतर्गत खड़ी बोली, ब्रजभाषा,  हरियाणवी व बुंदेली बोलियां आती है।

2   पूर्वी हिंदी* इस उपभाषा के अंतर्गत अवधी बघेली व छत्तीसगढ़ी बोलियां प्रयोग में आती हैं।

3  राजस्थानी हिंदी* इस उपभाषा के अंतर्गत मारवाड़ी, जयपुरी, मेवाती व मालवी बोलियों का प्रयोग किया जाता है।

4   पहाड़ी हिंदी*  इस उपभाषा के अंतर्गत कुमाउँनी  व गढ़वाली बोलियां बोली जाती हैं।

5    बिहारी हिंदी*  किस उपभाषा के अंतर्गत भोजपुरी, मैथिली व मगही बोलियां प्रयुक्त की जाती है।

 उपसंहार ** 
              इस प्रकार हम कह सकते हैं कि हमारी हिंदी भाषा विविधता को एकता में पिरोती हुई  निरंतर वृद्धि की ओर अग्रसर है जो हमारी सभ्यता व संस्कृति का परिचायक है।

 गीता पांडे रायबरेली उत्तर प्रदेश

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें