रविवार, 27 दिसंबर 2020

अशोक शर्मा वशिष्ठ जी द्वारा आत्मनिर्भर भारत की उड़ान#अद्वितीय रचना#

नमन मंच
बदलाव मंच विशेष एक दिवसीय प्रतियोगिता
विषय। आत्म निर्भर भारत की उड़ान
विज्ञान एवं तकनीक मे योगदान

  
     मेरा भारत अमुल्य भारत
दुनिया में अगुआ भारत
विश्व गुरु है मेरा भारत
नई दिशा दिखाता भारत

   भारत गुलामी की जंजीरों से जकड़ा था
अंग्रेजी शासन का दबदबा था
भारत के स्वाधीनता संग्राम मे स्वतंत्रता सेनानियों की लड़ाई रंग लाई
हमने दासता से मुक्ति पाई

आजादी के बाद नया युग आया
हर भारतवासी ने अपना योगदान पाया
अपनी योग्यता का पूरी दुनिया मे डंका बजाया
भारतीय ध्वज विदेशों मे फहराय 

   विज्ञान के क्षेत्र मे नाम कमाया
पोखरण मे परमाणु परीक्षण किया
 स्वदेशीकरण का मंत्र अपनाया
और पूरे जगत को चौकाया

विश्व के बहुधा देशों मे है योगदान
रचे कई कीर्तिमान भारत की बढ़ाई शान
आज भारत का है पूरे विश्व मे मान
सारे विश्व को प्रदान करता है ज्ञान

मेरा भारत आत्मनिर्भर भारत
विकास की उड़ान भरता भारत

   मुझे अपने राष्ट्र पर गुमान है
मेरा देश मेरा भारत महान है


    अशोक शर्मा वशिष्ठ
मै यह घोषणा करता हूँ कि यह मेरी स्वरचित कविता है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें