शुक्रवार, 6 नवंबर 2020

कवि शिवशंकर लोध राजपूत द्वारा विषय:करवाचौथ का त्योहार पर रचना

बदलाव मंच को नमन 
करवाचौथ पर विशेष आयोजन 
दिनांक:04/11/2020
दिन :बुधवार 
विषय:करवाचौथ का त्योहार 
विधा:कविता 

*करवाचौथ*

करवा चौथ का त्योहार आया
कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष चतुर्थी आज
सुहागिन स्त्री उपवास रखती आज 
अपने पति की लंबी उम्र के लिए
मेहंदी रची हाथ सजे कंगन के साथ
सोलह श्रृंगार किए पत्नी आज
पूजा की थाली और ले करवा साथ 
लंबी उम्र का वरदान दे जाना पिया को आज
सातों जन्म में पिया रहे मेरे साथ
करवाचौथ माता और पार्वती शिव
की भी आराधना संग करते आज 
अखंड सौभाग्यशाली रहने का
वरदान पाती पत्नी आज 
पत्नी करवा चौथ का उपवास करती 
पति की दीर्घायु की कामना करती आज
चांँद जल्दी झलक दिखा दो आज
मत करवाओ इंतजार भूख से
भी है मेरा बुरा हाल
मुँह भी है सूख रहा 
लगी है बहुत जोर प्यास 
बिन तुम दर्शन के कैसे तोड़ो उपवास 
जल्दी दर्शन दो हे चाँद
पति को छलनी से निहारूगी जी भर के आज
पहले दर्शन तुम्हारे करूंगी 
फिर पूजा और अर्क दूँगी तुम्हें आज 
फिर पति के दर्शन करुंगी 
और फिर उपवास का व्रत खोलूँगी 
पति के हाथों से जल पियूँगी
आस्था,विश्वास,धार्मिक है त्योहार
करवा चौथ का आया त्योहार

शिवशंकर लोध राजपूत 
(दिल्ली)
यह रचना स्वरचित व मौलिक है !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें