बुधवार, 18 नवंबर 2020

कलावती कर्वा "षोडशकला" जी द्वारा खूबसूरत रचना#

जय माँ शारदे 
बदलाव अंतर्राष्ट्रीय मंच साप्ताहिक प्रतियोगिता 
दिनाँक - 12/11/2020
दिवस - गुरुवार 
विषय - दीपोत्सव 
विधा- कविता 

दीपावली का मनभावन प्यारा त्यौहार आया। 
दीपक,मिठाई,फुलझङीयो की खुशियां लाया। 

दीपावली पर्व को हम सब कुछ इस तरह मनाए। 
गरीबों से सामान खरीदे,उनका घर रोशन हो जाए। 

विदेशी लाइट की लङीया छोड़ मिट्टी का दीप जलाए। 
स्वदेशी सामान महत्व दे,देश प्रेम की अलख जगाए। 

भगवान परोपकार भाव पूजा स्वीकारें कृपा बरसाए। 
अपनों से ज्यादा दुसरों को खुशी दे खुशियांँ मनाएं। 

दीपावली पर्वपर दीप जलाकर दीपोत्सव मनाए।  
स्नेह का दीप जलाकर मन का द्वेष कलुष मिटाए। 


यह रचना मेरी स्वरचित व मौलिक है 

कलावती कर्वा "षोडशकला"
कुचबिहार (पश्चिम बंगाल)

.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें