बुधवार, 11 नवंबर 2020

निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा# हिन्दी#

हिंदी हिंदी हिंदी हिंदी 
            माँ भारती के भाल की बिन्दी 
       हिंदी हिंदी हिंदी हिंदी 
                  हिंदी हें अभिमान हमारा 
    हिंदी स्वाभिमान  हमारा 
                हिंदी है हिन्दुस्तान हमारा 

   हिंदी अपनी राष्ट्रीय भाषा हें 
                हिन्दी अपनी मातृ भाषा हें 
   हिंदी अपने देश की भाषा हें 
                हिंदी  अपना  इतिहास  हें 
  फिर बोलो केसा  ये   यारों 
                   हिंदी से परिहास      हें    
   हिंदी हिंदी हिंदी  हिंदी   
   
    गंगा का पानी हें हिंदी 
           रहीम कबीर की वाणी हिंदी 
      तुलसी  की रामायण हिंदी 
              हिन्दी हिंदी जय जय हिन्दी 

   चिड़िया की चह चह हें हिदी 
        .     कोयल की कू कू  हें हिंदी 
       गौ माता की बोली     हिंदी 
  हिंदी हिन्दी प्यारी हिंदी 
             जय जय हिदी हिंदी हिंदी 

   हम कवियों के काव्य हें  हिन्दी 
              अपने गीत संगीत  हें   हिंदी 
   जीवन की मुस्कान    हें हिंदी 
                 अपनी तो पहचान  हें हिंदी 
  मातृ भूमि की  शान    हें हिंदी 
              जय जय हिंदी  हिंदी    हिंदी 

   माँ मामा पिताजी       हिंदी 
                 दादा दादी नाना नानी हिंदी 
  अम्मा की हें     लोरी हिंदी 
              नानी दादी  की कहानी हिन्दी 
  कितनी प्यारी निराली  हिंदी 
                 हिंदी हिंदी    हिंदी     हिंदी 

 गर्व से   बोलो हिंदी हिंदी 
                 सब मिल बोलो  हिंदी हिंदी 
  प्रेम से  बोलो   हिंदी   हिंदी
                      सबसे प्यारी  बोली हिंदी 
  जय जय हिंदी हिन्दी हिन्दी 
                        लिखो हिंदी  पढ़ो   हिंदी 
  वाह वाह   हिदी जय जय हिन्दी  

        जय हिंदी जय हिंद   बंदे मातरम 


 निर्दोष लक्ष्य जैन 
................           
  स्वरचित 
............धनबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें