मंगलवार, 24 नवंबर 2020

कवयित्री अंजनी शर्मा जी द्वारा रचना ‘दीपावली’

बदलाव मंच हेतु साप्ताहिक प्रतियोगिता
 विषय- दीपावली


राम तत्व है केवल नाम नहीं।
आदर्श है उच्च धरातल का।।
कोई पल-पल परिवर्तित भयाधार नहीं।
बसा कण-कण में आत्म वह अच्युत।।
शाश्वत है सत्ता ,कोई नश्वर अवतार नहीं।
हृदयंगम है कब से वह तो।
जीव ही रहता अनभिज्ञ ।।
न रखता पवित्र स्वयं को होता हर बार यही।
राम- सा शील हो गर जीव में ।
मुक्त होता जीव हाँ सत्य होता सार्थक हर बार यही ।।

राम तत्व है केवल नाम नहीं।
आदर्श है उच्च धरातल का।।
कोई पल-पल परिवर्तित भयाधार नहीं।


अंजनी शर्मा गुरुग्राम हरियाणा द्वारा स्वरचित मौलिक व सर्वाधिकार सुरक्षित रचना

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें