सोमवार, 23 नवंबर 2020

कवि डॉ सुनील कुमार परीट द्वारा 'दीपावली' विषय पर रचना

बदलाव राष्ट्रीय /अंतरराष्ट्रीय मंच
मंच को नमन
दिनांक :- 17.11.2020
विषय :- दीपोत्सव

शीर्षक :- *।। दीपावली ।।* 

खुशी से सब झूमो गाओ यारों
आया दीपावली त्योहार आया
दीपों से चमकेगा का सारा संसार
साथ में खुशियों का बहार लाया ।।

अज्ञान रूपी तिमिर को हटाया है
अंधकार पर विजय पाया है 
चहु ओर खुशियां ही खुशियां हैं
अब न कहीं गम का साया है ।।

दीपों की कतार देखकर अब
मन प्रफुल्लित हो उठा है यारों
हंसते रहो कदम कदम पर सदा
जीवन में प्रकाश पर्व हो यारों ।।

दीपावली पर्व है सबसे महान
एक हो जाते हैं सब घर परिवार
मन आंगन अब पूरा सजेगा
रिश्ते कलह का यह है परिहार ।।

दीपावली अनोखा त्योहार है
ये अपनों को पास ले आता है
लक्ष्मीपूजा से सुख समृद्धि आती है
भगवान सबके कष्ट हर लेता है ।।

 *डॉ सुनील कुमार परीट* 
बेलगांव कर्नाटक 
वरिष्ठ हिंदी अध्यापक कर्नाटक 


स्वरचित मौलिक रचना सर्वाधिकार सुरक्षित

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें