मंगलवार, 17 नवंबर 2020

शिवशंकर लोध राजपूत जी द्वारा खूबसूरत रचना#

राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय बदलाव मंच 
मंच को नमन 
साप्ताहिक प्रतियोगिता 
विषय:दीपोत्सव 
दिनांक :11/11/2020
दिन :बुधवार 
विधा:कविता 

*दीपावली पर्व*
हमारा भारत देश 
है कई त्योहारो कर देश 
दीपावली हिन्दुओं का 
है पवित्र त्योहार 
चौदह वर्ष का वनवास काटकर 
मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम लौटे इस दिन 
आपने जन्मभूमि अयोध्या धाम 
अत्याचारी लंकापति रावण का अंत करके 
अयोध्या नगर वासियों ने इस ख़ुशी मे 
दीपामहोत्सव मनाया था आज 
तब से दीपावली की परम्परा 
मनती चली आ रही है अब तक
इस दिन माँ लक्ष्मी व गणपति
की पूजा का है विधान 
धन, ऐश्वर्य, विघ्न हो दूर कार्य मे 
इसका मिलता है वरदान 
सत्य की असत्य पर
जीत का है यह त्योहार 
बुराइयों पर अच्छाइयों 
का है यह त्योहार 
अज्ञान पर ज्ञान की विजय
का है यह त्योहार 
मन के अंधकारों को मिटाकर 
प्रकाश फैलाने का है त्योहार 
एक संकल्प ले हम आज 
दीप की रोशनी भर दे 
सब मानव के मन मे आज 
इक दीप से असंख्य 
दीपों को जलाने
का है यह त्योहार 

शिवशंकर लोध राजपूत 
(दिल्ली)

मै प्रमाणित करता हूँ कि यह रचना स्वरचित व मौलिक है !

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें