शनिवार, 28 नवंबर 2020

प्रकाश कुमार मधुबनी"चंद जी द्वारा अद्वितीय रचना#

*स्वरचित रचना*
*मुक्तक*
मित्रता का जिसको एहसास नही होता।
उसको खुशियों का आभास नही होता।।
जिंदगी में मित्रता ही सबसे बड़ा धन है।
मित्र हो जिसका श्री कृष्ण सा उसका
 असफल कोई प्रयास नही होता।।

*प्रकाश कुमार मधुबनी"चंदन"*

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें