रविवार, 15 नवंबर 2020

श्याम कुँवर भारती जी द्वारा#दिल आबाद हो गई#

भोजपुरी गजल- दिल आबाद हो गईल |
नाम तोहार लेके,  दिल अब आबाद हो गईल |
कहलू की केवन पागल , हमार आज हो गईल |

आसरा लगवली तोहसे ,नजर हमसे फेर लिहलु |
छुटल न तोहरो आस ,जल दिल खाक हो गईल |

कहेला लोगवा हमसे, तू खुदा की खिदमत कर |
अँखिया बसेलु तू हमरा ,भक्ति तोहार हो गईल |

पत्थर पूजेला लोगवा ,मिल जाले सबके राम |
पिघलल ना दिल तोहरो , दिल बरबाद हो गईल|

स्वाती के बूंद पानी , चितवत रहे चकोर |
तोहके जोहत मे जिनगी ,तन आजाद हो गईल |

बियवा बोवे किसान ,पक फल अनाज बदे |
पकल ना हमरो प्यार ,अब खराब हो गईल |  

जइसे पूजेले देवता ,हम तोहरे के पुजली |
रीझलू ना कबों हमरा, दुशमन सब समाज हो गईल |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]
कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें