मंगलवार, 20 अक्तूबर 2020

माँ ममतामयी#राजेश तिवारी "मक्खन" जी द्वारा खूबसूरत रचना#

माँ ममतामयी 
द्वार पडे हम शिशु सुत तेरे , माँ ममतामयी आओ ।
आकर दरश  दिखाओ।माता । आकर दरश दिखाओ ।।

नहीं शक्ति है  हम में कोई , माँ मैं कैसे तुम्हें पा सकता ।
कृपा कृपामयी यदि कर दे तो पंगु शिखर चढ सकता ।।
दूखन लगे दरश बिन नैना , अब तो दया दिखाओ ।................१
आकर .........................................................

प्रथम शैल पुत्री तुम हो  माँ , द्वितीय ब्रह्म आचरणी ।
तृतीय चन्द्रघण्टा माँ तुम हो , महिमा वेदों ने वरणी ।।
कुष्माण्डा चौथी देवी माँ , अधिक न अब तरसाओ ।,,,,,,,,,,,,,,,२
आकर .........................................................

पंचम तुम स्कन्द की माता , सब जग की हो महतारी ।
षष्ठम हो कात्यायनी देवी ,   महिमा अति विस्तारी ।।
सप्तम कालरात्रि माँ मेरी , हमें आकर के समझाओ ।..........३
आकर .......................................................

महागौरी माँ कृपा कर दो , सद् भाव भुवन में भर दो ।
सिद्धि दात्री सब  लोगन  के  , हृदय  निर्मल  कर दो ।।
मक्खन मन से तुम्हें पुकारे , माँ अब तो तुम आ जाओ ।.............४
आकर ......................................................

मेरी यह रचना स्वरचित व मौलिक है ।

राजेश तिवारी "मक्खन"
झांसी उ प्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें