बुधवार, 14 अक्तूबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना “ये देश है हमारा"

ये देश है हमारा 
   ये देश है हमारा ,   हमारा रहेगा 
         नभ में सूरज चाँद एक भी तारा रहेगा 
   ये देश है हमारा , हमारा  रहेगा 
          सत्य अहिंसा धर्म का जयकारा रहेगा 
   विजयी विश्व तिरंगा फहराता रहेगा 
               ये देश है हमारा ,   हमारा रहेगा 
  जो नजर इसपर डाले  जिंदा न रहेगा 
               चाईना हो या पाक सफाया रहेगा 
   न झुका है कभी न सर ये झुकेंगा 
             विजयी विश्व तिरंगा  हमारा रहेगा 
   सदा दिलखुशी का नजारा रहेगा 
               ये देश है  हमारा , तुम्हारा  रहेगा 
   सर्व धर्म का सदा जयकारा रहेगा 
             मंदिर मस्जिद ,चर्च गुरूद्वारा रहेगा 
   हिंदू मुस्लिम , सिख , ईसाई रहेगा 
             हर दिल में सिर्फ हिंदुस्तान    रहेगा 
   बच्चा बच्चा देश पर गुमान करेगा 
     दिल में सुभाष,हमीद,भगत, आजाद रहेगा  
   शहीदो का सदा ही नाम रहेगा 
            इस मिट्टी पर सदा अभिमान रहेगा 
   "लक्ष्य" पल पल देश पर कुर्बान रहेगा 
                  ये देश है हमारा , हमारा  रहेगा 
                 स्वरचित   निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें