मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

कवयित्री रोशनी दीक्षित जी द्वारा 'ज़िंदगी विषय' पर मुक्तक


ये ज़िन्दगी भी क्या कमाल करती है। 
जुर्म का पता नहीं, पर सजा सी कटती है। 
जाने किस मंजिल की तलाश  है यहाँ सबको, 
जबकि जिंदगी की मंजिल तो मौत ही मिलती है। 
 *रोशनी दीक्षित बिलासपुर छत्तीसगढ़.... 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें