सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

डॉ मीना कुमारी'परिहार' जी द्वारा खूबसूरत रचना#

नमन बदलाव मंच
नमन बदलाव मंच के सभी सम्मानित जनों को 🙏🙏
साप्ताहिक प्रतियोगिता
 दिनांक 24/10/2020
शीर्षक-नारी की महत्ता
*******************
जी हांँ, मैं नारी हूंँ
मैं शक्ति स्वरूपा हूंँ
मुझे रचकर इतिहास बनाया 
ईश्वर ने
मैं ईश्वर की बनाई सुन्दर अभिव्यक्ति हूंँ
मैं समाज, परिवार और देश की अद्भुत शक्ति हूंँ
सभी को नवजीवन से पोषित कर कर्मठ बनाती हूंँ
संस्कारों  का बीज पुष्पित करके
एकता के बंधन में बांधने रखती हूंँ
जी हां, मैं नारी हूंँ,गजब की शक्ति मुझमें
मैं शक्ति हूं.. स्वयं की..
गौरव, निज समयमान, और प्रतिष्ठा की
हर हाल में अपनी रक्षा करती हूंँ
मैं शक्ति हूंँ  .... विश्व की.
अहिंसा, धैर्य, और शान्ति का पाठ पढ़ाती हूंँ
जी हांँ, मैं नारी हूंँ, मैं अभिमान हूंँ
मैं एक‌अलग पहचान बनाऊंगी
लिपटी साड़ी में कोमल तन को
हर घर में रहती थी वो
पर किसी ने न जाना
मेरे मन को
चाहे मैं जो भी बन जाऊं
गर्व से नारी कहलाएंगी
चाहे युग कोई भी आ जाये
मैं ही जगत जननी कहलाऊंगी
मैं अपना हुनर प्रर्दशन कर दिखलाऊंगी
अब स्वतंत्र हो कर जीत का पंचम लहराऊंगी
जी हांँ, मैं नारी हूंँ, मैं अद्भुत सृष्टिकर्ता हूंँ

डॉ मीना कुमारी'परिहार'

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें