बुधवार, 21 अक्तूबर 2020

कवि निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा 'सासु माँ' विषय पर रचना

सासु माँ 

     दुनियाँ में माँ का यारों 
                       सदा  प्रथम स्थान 
     जननी , जनम भूमि, के 
                  बाद सासु माँ का स्थान 
     इनका भी सदा है भाई 
                    माँ सम है    सम्मान 
    वो माँ सी सूरत होती है 
                  प्यार हमें बहुत करती है 
   हमें देख बहुत खुश होती है 
              नए नए पकवान खिलाती है 
    रोली चंदन टीका कर के 
                  वो ही तो रुपया देती है 
     वो सास हमारी होती है 
                   बीबी की माँ वो होती है 
    यद सास का तुम सम्मान करो 
                    बीबी भी खुश  होती है 
     वो तुम पर जान लुटाती है 
              ना झगड़ा जिद वो करती है 
      जो कहते हो वो करती है 
          ....किसी शायर ने तो लिख डाला 
     सास तीर्थ धाम  होती  है 
                        वो सास हमारी होती है 
   .".लक्ष्य" सासु माँ वो होती है 
                         उनका भी वंदन करलो 
     वो माँ सम ही    होती है 

           स्वरचित    निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें