रविवार, 18 अक्तूबर 2020

कवि रामबाबू सिंह जी द्वारा रचना

.
            *आराधना*
              ~~~~~
              मात पिता,
              भारत  मां..
              धरा नमन।
               हितकारी,
               जन-जन का..
               करें वंदन।।
              
               जल अमृत,
               जानत सब..
               पहल करें ।
               दुरुपयोग,
               करने से..
               संकट बढ़े।।
              
               जल महिमा,
               चरणामृत.
               समझाकर।
               सब समझें,
               ऐसा जतन..
               अपनाकर।।
              
               बारिश जल,
               जाये अब..
               ना बहकर।
               घर-घर में,
               रिचार्ज से..
               समाधान।।
             
       ©®
          रामबाबू शर्मा, राजस्थानी,दौसा(राज.)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें