बुधवार, 14 अक्तूबर 2020

कवि राजेश कुमार जैन जी द्वारा रचना “संस्कार मात्र एक शब्द ही नहीं संपूर्ण दर्श है!"

सादर समीक्षार्थ
 विषय     -     संस्कार 
विधा     -      साइली छंद

1 -               संस्कार 
                  मात्र एक
               शब्द ही नहीं 
                संपूर्ण दर्शन 
                         है ।

2    -                सबके
                    हित समाहित
                   रहते संस्कारों में
                         अद्भुत है
                            विचार 

3    -                   स्वयं
                       पर विश्वास
                  करना सिखाते हैं
                      संस्कार हम
                           सबको 

4    -                     जीवन 
                         प्रभु प्रदत
                      उपहार है यही
                            बताते हैं
                               संस्कार
 
 5   -                   समग्र
                  विकास, जनहित
                      के पुण्य भाव
                       का  संगम
                          संस्कार 

6   -                    विपरीत
                     परिस्थितियों में
                   जीवन संदेश देते
                      संस्कार सभी
                                को

7     -              निराशा
                       दूर कर
             उत्साहित करते सदा
                     संस्कार, व्यक्ति
                               को

 8 -                      जियो
                        और जीने
                  दो बताते संस्कार
                    सभी को 
                           यहाँ

9  -                         धर्म 
                         का मूलमंत्र
                     छुपा है संस्कारों
                            में ही 
                             देखो 

10  -                    सुखी 
                           रहें सब
              संस्कार ही सिखाते
                           हैं हम
                            सबको 

11   -                 वैमनस्य
                     त्याग परस्पर
                     प्रेम सिखाते हैं
                        संस्कार हम
                             सबको 

12 --                ईश्वर
                      के प्रति
            दृढ़ विश्वास उपजाते
                        मन में
                       संस्कार





    राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल 
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें