शनिवार, 10 अक्तूबर 2020

कवयित्री सविता मिश्रा जी द्वारा रचना “मुंशी प्रेमचंद"

मंच नमन 
बदलाव मंच (राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय) 
दिनांक - 8-10-2020
दिन - गुरूवार
विषय - मुंशी प्रेमचंद
विधा - कविता 

है तारीख 8 अक्तूबर कुछ खास, 
पुण्य तिथि है महान एक रचनाकार का l
 मुंशी प्रेमचंद था उनका नाम ll

थे बहुमुखी प्रतिभा के धनी,
रचनाये होती मार्मिक इनकी थी l
 वास्तविकता से भी पूर्ण थी ll

चाहे गोदान हो या ईदगाह,
कर्मभूमि हो या पूस की रात l
  सभी रचनाये है बेमिसाल ll

सोने और खाने का नाम नहीं है जिंदगी, 
आगे बढ़ते रहने की लगन का नाम है जिंदगी l
ऐसे ही अनेकों अनमोल विचारों के थे स्वामी ll 

मुंशी प्रेमचन्द जी सचमुच महान थे, 
रहते थे धरा पर लेकिन l
उनके दिल दिमाग आसमाँ के समान थे ll

गरीबों, मजलूमों के दर्द को, उन्होंने कलम से उकेरा, 
हर मजबूर को सहारा दिलाने के लिए l
उन्होंने अपने शब्दों से फेरा ll

आज पुण्य तिथि पर करती हूँ शत- शत नमन, 
कोटि कोटि करती हूँ मैं वंदन l
अर्पित करती हूँ मैं अपने श्रद्धा सुमन ll

रचनाकार का नाम - सविता मिश्रा 
(शिक्षिका, समाजसेविका और और लेखिका ) 
पता - वाराणसी उत्तर प्रदेश 
स्वरचित और मौलिक रचना

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें