सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

डॉ भावना एन सावलिया जी द्वारा बेहतरीन रचना#

दिनांक - २५/१०/२०२०
दिन - रविवार
विषय - दशहरा
विधा - कविता 
खुशियों का पर्व आया दशहरा ,
सत्य-विजय के गीत गाए वसुंधरा ।
जय-विजय के गान से है गुँजित ,
सबके तन-मन आज हैं हर्षित ।
बढ़ जाता पाप जब धरती पर ,
संकट मँडराता ऋषि-मानव पर ।
तब देवी-देवता धरते अवतार  ,
प्रभु करते सबकी  नैयापार ।
महिषासुर का पाप था चारों ओर,
फैला था त्राहि-त्राहि का शोर ।
माँ दुर्गा-शक्ति ने लिया अवतार ,
खेला संग्राम दस दिनों लगातार ।
महिषासुर का कर दिया नाश,
पृथ्वी पर छाया हर्षोल्लास ।
हुई पुष्प-वृष्टि दिव्य-शक्ति पर,
मनाते तब से हैं दशहरा हर घर ।
जब पाप बढ़ा असुर रावण का ,
 काँपते थे प्राण देव-मानव के ,
अधर्म ,पाप जब-जब बढ़ा मग में ,
धर्म-रक्षा काज राम आये थे जग में ।
राम-रावण के दस दिन  के युद्ध में, 
जीत थी असत्य पर सत्य आयुध में ।
सत्य आगे असत्य नहीं टिकेगा ,
जग में कभी सत् धर्म नहीं मिटेगा ।
आज  जलाते पुतला रावण का ,
नाश नही करते भीतरी रावण का ।
हम जीवित रावण को नहीं मिटा पायेंगे ,
तब तक पाप- दूराचार नहीं मिटा पायेंगे ।
 हम सब भीतरी महिषासुर को मारे, 
दुर्गा पूजा को  हम सार्थक करें ।
हम बोये बीज मंगल विचार के ,
 फिर फल लगे कैसे दूराचार के  ?

डॉ भावना एन सावलिया 
राजकोट गुजरात

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें