मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

कवयित्री नीलम डिमरी जी द्वारा सुप्रभात लेखन

नमन वीणा वादिनी

दिनांक--05/10/2020
दिवस --सोमवार

        **सुप्रभात लेखन**
##################

अपने सपनों को यूं
जंजीर से ना बांधो
उड़ने दो इन्हें
खुले आसमान में।
कौन बच पाया है इन जंजीरों से
छल करते हर काल में
अच्छाई की जंजीर अपनाओ
बुराई का भाला फेंक दो
हंसो और हंसाओ जग को
इंसान हो नेक बनो।

       स्वरचित--- नीलम डिमरी
        चमोली,,,, गोपेश्वर

   

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें