बुधवार, 7 अक्तूबर 2020

कवयित्री गीता पाण्डेय जी द्वारा रचना “सत्य वचन सुधा”

*सत्य वचन सुधा*
****************
इंसान बड़ा हुआ तो,
              बचपन भूलता है,

                 शादी हुई तो,
          माता-पिता को भूलता है,

                  बच्चे हुए तो,
          भाई-बहनों को भूलता है,

                 अमीर हुआ तो,
           गरीब को भूलता है और,

              जब वृद्ध होता है तो,
        भूला हुआ सब याद करता है ।

 साभार-
*गीता पाण्डेय (उप-प्रधानाचार्या)*
रायबरेली

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें