बुधवार, 28 अक्तूबर 2020

माधवी गणवीर, वर्चस्वी जी द्वारा विषय सतर्क भारत समृद्ध भारत पर खूबसूरत रचना#

नमन मंच
बदलाव अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय मंच
दिनांक - 26/10/2020
विषय - *सतर्क भारत समृद्ध भारत*
अदने से वायरस ने मौत का ऐसा तांडव रचाया है
कहीं मां का लाल, पिता का दुलार, कहीं पत्नी का सिंदूर छुड़ाया है।

अब दृढ़ संकल्पित हो देखें कोरोना का कहर,
सतर्कता, सावधानी बरतने से, यह भी जाएगा ठहर।

स्नेह,प्रीत,अपनापन सबको एक छत में ले आया,
 शिक्षा,समृद्धि, आत्मनिर्भरता का गजब पाठ पढ़ाया।

डटे,लड़े और खौफ  भी खाया सबने,
 डॉक्टर, पुलिस, जागरुक जन को हरा न पाया उसने।

 अब भरकर आत्मविश्वास मास्क और सेनेटाइजर का लेकर साथ,
दो गज दूरी रखना जरूरी, सतर्कता से बनेगी बात।

संभल और सहयोग सबका निभाते चले,
देश को एकता कर्मठता से समृद्ध हम बनाते चले।

स्वस्थ रहे,काढ़ा पिए, स्वास्थ्य में ना हो लापरवाही,
 स्वच्छ रहे, जिम्मेदार बने, अब जन-जन की है जिम्मेदारी।

 दृढ़ इरादों,बुलंद हौसलों से देश समृद्ध बनाएं हम,
 कोरोना जैसी आपदा को जीतकर दिखाएं हम।

*माधवी गणवीर*, वर्चस्वी
छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें