कवि बाबूराम जी द्वारा 'हे कृषक तुम हो महान' विषय पर रचना

हे  कृषक  तुम   हो महान
*************************

हो भव्य देव भू के भगवान ।
हे  कृषक  तुम  हो   महान ।

माँ अवनी का आदर करते ।
सुचि फसलों से गोदी भरते।
पूर्ति कर चारों  आश्रम की -
जग की दुख आफत हरते ।

सबके मुख पर लाते मुस्कान।
हे   कृषक  तुम   हो   महान ।

सुखा ,बाढ़ या  हो  माहामारी।
प्रगट करते ना कभी  लाचारी।
दृढ़   व्रती   संकल्पित  होकर-
फसल  उगाते   प्यारी - प्यारी।

विष  भी  पी  रहते  अगुआन ।
हे   कृषक   तुम   हो   महान ।

सेवा ,दान   अनमोल  तुम्हारा।
हो अतुल्य कहाँ  तोल तुम्हारा।
सावन   जैसा  मन  भावन   है-
जग   में   मिठे   बोल  तुम्हारा।

सब  कुछ  सहते  हो लहुलुहान।
हे    कृषक    तुम    हो   महान।

चरणों   में   शत -शत  वंदन  है।
तुम्हें  कोटि-कोटि अभिनंदन  है।
तेरे  मेहनत   के  श्वेद  कण    से-
धुल  जाता  जग  का  क्रंदन   है।

तुम  हो  सपूत  धरती  के  शान।
हे    कृषक    तुम    हो    महान।

*************************
बाबूराम सिंह कवि
बड़का खुटहाँ , विजयीपुर
गोपालगंज (बिहार )
====================
कवि बाबूराम जी द्वारा 'हे कृषक तुम हो महान' विषय पर रचना कवि बाबूराम जी द्वारा 'हे  कृषक  तुम   हो महान' विषय पर रचना Reviewed by बदलाव मंच on अक्तूबर 17, 2020 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.