मंगलवार, 6 अक्तूबर 2020

कवि भास्कर सिंह माणिक कोंच जी द्वारा 'अच्छा सोचे, अच्छा बने' विषय पर रचना

मैं मंच को नमन करता हूं
विषय -अच्छा सोचे, अच्छा बने
विधा -मुक्तक

आओ हम नव निर्माण  करें
पानी   पानी   पाषाण    करें
हम अच्छा सोचे ,अच्छा बने
आओ जग का कल्याण करें
         -----------
हम  गीत  प्रेम  के गाएंगे
हम तम में दीप जलाएंगे
अच्छा सोचे ,अच्छा  बने
हम नव इतिहास रचाएंगे
          ---------
मैं घोषणा करता हूं कि यह मुक्तक मौलिक स्वरचित है।
       भास्कर सिंह माणिक,कोंच

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें