सोमवार, 19 अक्तूबर 2020

कवयित्री पूजा परमार सिसोदिया जी द्वारा रचना

बदलाव मंच को नमन
दिनांक _ 17/10/20
दिन _ शनिवार
शीर्षक - माता रानी

क्यों सोचे क्या जीते हारे
जब माता रानी के तू सहारे।

सुकून बड़ा है माँ के द्वारे
बिगड़े काम माँ सबके सवारे।

भटका है तू मनुष्य कहा रे
माता रानी तुझे पुकारे।

जय माता दी में बड़ा है दम
दिन रात गा तू माँ के जयकारे।

जय माता दी

पूजा परमार सिसोदिया
आगरा ( उत्तर प्रदेश)
pujaparmar89@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें