रविवार, 4 अक्तूबर 2020

कवि राजीव रंजन जी द्वारा 'प्रेम' विषय पर रचना

उसने कहा कि-
मुहब्बत तेरा वादा है,पर नफरत मेरा इरादा है, 
मेरे नफरत की ताकत तेरे उल्फ़त से ज्यादा है।
मैंने कहा कि-
मुहब्बत के बिना नफरत अधूरी है,
नफरत करने के लिए भी मुहब्बत जरूरी है। 
राजीव रंजन गया (बिहार)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें