सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

निर्मल जैन 'नीर'ऋषभदेव जी द्वारा खूबसूरत रचना#

सृजन.....
*******************
करो वन्दन~
माँ के श्री चरणों में
नया सृजन
नव विचार~
लेखनी में भर दो
माँ सुसंस्कार
बदला दौर~
ये कलम कभी न
हो कमज़ोर
कभी रूके ना~
चंद नोटों के आगे
कभी झुके ना
सृजन हो सच्चा~
झूठ के आगे कभी
ना खाए गच्चा
*******************
निर्मल जैन 'नीर'
ऋषभदेव/उदयपुर
राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें