गुरुवार, 1 अक्तूबर 2020

कवि आशुकवि प्रशान्त कुमार"पी.के." जी द्वारा रचना (विषय-नारी तुम क्यों हिम्मत हारी)

*नारी तुम क्यों हिम्मत हारी*
---------------------------------------
*नारी तुम क्यों हिम्मत हारी, दोधारी तलवार बनों।*
*काल रूप काली चंडी बन, उनके शीश उतार रखो।।*
*जिसने तेरी आबरू उतारी, उसकी खाल उतारो तुम,*
*'पी.के.' छूते ही मिलें ख़ाक में, ऐसे तुम अंगार बनो।।*
          **********
*आग बनों, शोला बन जाओ, जिंदा एक मिसाल बनों।*
*नही जरूरत दूजों की खुद के लिए, खुद ही ढाल बनों।।*
*काली बन महाकाल रूप धर, पापी को संहारो तुम,*
*जो अस्मिता पे हाथ उठाए, भस्म हो ऐसी ज्वाल बनों।।*
----------------------------------------
आशुकवि प्रशान्त कुमार"पी.के."
   पाली हरदोई (उत्तर प्रदेश)
        8948892433

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें