बुधवार, 21 अक्तूबर 2020

बृंदावन राय सरल सागर जी द्वारा प्रेम पर बेहतरीन रचना

बृंदावन राय सरल सागर एमपी
मनोरम छंद,,,,,प्रेम,,
प्रेम करके,, आप सबको।।
जीत लेंगे ,,आप जग को।।

जोर पर तुम,, तीर ,बम, के।।
जान ही बस,, ले सकोगे।।

प्रेम बांटो,, प्रेम पाओ।।
आदमी को,, जीत जाओ।।

प्रेम जग में,, मंत्र ऐसा।।
बाग़ में है,, फूल जैसा।।

प्रेम जीवन, श्रेष्ठ करता।।
प्रेम से ही, द्वेष मिटता।।

प्रेम करिए,, आप सबको।।
जीत लेंगे,, आप जग को।।
बृंदावन राय सरल सागर एमपी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें