सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

डॉ.राजेश कुमार जैन जी द्वारा बेहतरीन रचना#

सादर समीक्षार्थ
माँ की आरती 
दिनाँक-   24. 10. 2020
बदलाव  राष्ट्रीय अंतररष्ट्रीय मंच
साप्ताहिक प्रतियोगिता
नारी शक्ति / नव रात्रि
दिनाँक 18 से 24 अक्टूबर
विषय - नारी शक्ति


 जय दुर्गे अम्बे मैया
 जय जय भवानी मैया
 निशदिन हम, करें तेरी आरती
 सब मिलकर गाएँ, तेरी आरती..।।
 जय दुर्गे अम्बे मैया
 जय जय भवानी मैया..।।

श्रृंगार तेरा,सब मिलकर करते
माँग में सिंदूर, कानों में कुंडल 
नैनों में काजल , माथे पर बिंदिया 
मुख मंडल अति अद्भुत है लागे ..।।
जय दुर्गे  अम्बे मैया
 जय जय भवानी मैया..

 चंड- मुंड का, शीश काटकर
 मधु -कैटभ को, तुमने मारकर
 भक्तों का, उद्धार किया था
 जन जन का, कल्याण किया था..।।
 जय दुर्गे अम्बे मैया
जय-जय भवानी मैया..।।

 तुम सब से ही, प्यारी मैया
 सब के दुख, हर लेती मैया
 तुम शिव की, महारानी मैया
 मनवांछित फल, देती मैया..।।
 जय दुर्गे अम्बे मैया 
जय जय भवानी मैया..।।

 सबकी पार, लगाती नैय्या
 तुम सा न और कोई खिवैया
 आशीष सभी को, देती मैया
 सबकी झोली, भर देती मैया..।।

 जय दुर्गे अम्बे मैया..
 जय जय भवानी मैया..
 नित दिन हम करें तेरी आरती 
सब मिलकर गाएँ तेरी आरती..।।



डॉ.राजेश कुमार जैन
श्रीनगर गढ़वाल
उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें