सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

निर्मल जैन 'नीर' जी द्वारा बेहतरीन रचना#

विजयादशमी...
*******************
पावन पर्व~
विजयादशमी पे
छाया है हर्ष
बुरे हैं काज~
घूमे राम-वेश में 
रावण आज
कर दो अंत~
मन में बुराईयाँ
छिपी अनंत
रावण काज~
जानें कब आयेगा
राम का राज
******************
निर्मल जैन 'नीर'
ऋषभदेव/उदयपुर
राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें