शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2020

कवि भवेश कुमार सुमन जी द्वारा रचना “गांधी का संदेश "

गांधी का संदेश 
******************************************************


 बड़ी दूर से आए हैं ,गांधी का संदेश लाए हैं। 
बड़ी दूर से आए हैं ,गांधी का संदेश लाए हैं।।
अब अपना लो या ठुकरा दो, गांधी का संदेश लाए हैं । 
हम मानवों के जो नाते हैं ,वह तोड़े नहीं जाते। 
हम मानवों के जो नाते हैं, वह तोड़े नहीं जाते ।।
तोड़ लिए तो, फिर जोड़े नहीं जाते, फिर जोड़ नहीं जाते
 ये नाते है, ये नाते, ये नाते मानव में बस आए हैं। 
गांधी का संदेश लाए हैं ।।
बड़ी दूर से आए हैं ,
गांधी का संदेश लाए हैं ।।
अनजाने राहों में तो कोई गांधी मिलेगा। 
अनजाने राहों में तो कोई गांधी मिलेगा।।
कोई तो होगा जो हमें गांधीवादी बनाएगा, गांधीवादी बनाएगा।।
यह सपना, यह सपना, यह सपना दिल ने सजाए हैं। 
गांधी का संदेश लाए हैं।।
बड़ी दूर से आए हैं, गांधी का संदेश लाए हैं । 
अब अपना लो या ठुकरा दो, गांधी का संदेश लाए हैं।। 

स्वरचित कविता
भवेश कुमार सुमन 
सहायक शिक्षक
सहरसा
०२-१०-२०२०
09:25:10 PM

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें