बुधवार, 21 अक्तूबर 2020

निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा सुनो प्यारे पापा बेहतरीन बेहतरीन रचना#

सुनो प्यारे पापा सुनो प्यारे पापा 
                  मेरे जनम दाता हे भाग्य विधाता 
      सुनो मेरा कहना ये बेटी का कहना 
  ...              मैं बेटी नही हूँ अभिमान तुम्हारा 
       सदा मान रखूंगी पापा   तुम्हारा 
                    नही देश से ऊंचा कोई  हमारा 
       पढ़ लिख कर देश का मान बढ़ाना 
                सुनो प्यारे पापा ये बेटी का कहना 
       पढ़ लिख कर शिक्षिका मुझे बनना 
                शिक्षा जगत मे    हे नाम  कमाना 
       बच्चों कॊ पढ़ाना और काबिल बनाना 
                 राष्ट्र भक्ति का सदा पाठ  पढाना 
      देश भक्ति का सबमे जज्बा  जगाना 
              .किसी कॊ "कलाम" शास्त्री" राजेंद्र 
.     किसी कॊ जांबाज "सुभाष"भगत" 
                       "आजाद" " हमीद"  बनाना 
       देश से ऊंचा ना कोई  हमारा 
                    ये सबके पापा  दिल मे बेठाना 
       सुनो प्यारे पापा ये बेटी का कहना 
              ....सदा सर पर हाथ बेटी के रखना 
       मैं पुरा करूंगी तेरा हर  सपना 
    ...              मैं बेटी ही नही हूँ बेटा तुम्हारा 
      हूँ अभिमान तुम्हारा तू संसार हमारा 
                 " लक्ष्य " पापा तेरा  मान रखना 
     मेरे जनम दाता भाग्य विधाता 
                सुनो प्यारे पापा  बेटी का कहना 
     करूं  पूजा तेरी तू भगवान हमारा 
            
          स्वरचित                      निर्दोष लक्ष्य जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें