कवयित्री डाॅ ज्योत्सना सिंह जी द्वारा रचना “महामानव कलाम"

"महामानव कलाम"

कलाम !
मात्र एक नाम नहीं ..,
एक" पहचान "है ,
विश्व पटल पर भारत के कर्मशीलता की , 
मूर्त रूप हैं ,
सर्वधर्म समभाव के,
"बृहद हस्ताक्षर" हैं ,
ज्ञान और विज्ञान के ,
"यात्रा "हैं ,
धरती से अंतरिक्ष तक की ,
"प्रमाण" हैं ,
संघर्ष से सफलता के उत्कर्ष की ,
"कलाम "
मात्र एक नाम नहीं, 
एक सोच हैं !
एक विचारधारा हैं !
एक दिशा हैं !
जिस के बताए मार्ग पर चलकर, 
हमें आज के भारत को ,
कलाम का भारत बनाना है क्योंंकि,
"कलाम "!
मात्र एक नाम नहीं.....,
"आत्मा "हैं भारत की ।।

डाॅ ज्योत्सना सिंह "साहित्य ज्योति"
कवयित्री डाॅ ज्योत्सना सिंह जी द्वारा रचना “महामानव कलाम" कवयित्री डाॅ ज्योत्सना सिंह जी द्वारा रचना “महामानव कलाम" Reviewed by माँ भगवती कंप्यूटर& प्रिंटिंग प्रेस मुबारकपुर on अक्तूबर 17, 2020 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.