शनिवार, 10 अक्तूबर 2020

कवयित्री सुधा सेन ‛सरिता' जी द्वारा रचना

ज़िन्दगी से हर हाल में निभाया हमने। 
बेइंतिहा प्यार भी जताया हमने। 
इल्जामे बेवफाई मिली फिर भी-
क्या गुनाह गर मौत को गले लगाया हमने। 

 अब बेवफाई का मन बना है। 
तुझसे वादा खिलाफ़ी का मन बना है। 
दिल से बगावत करके हमे-
मौत को बाहों में भरने का मन बना है ।
सुधा सेन 'सरिता '

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें