शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

कवि प्रकाश कुमार मधुबनी “चंदन" जी द्वारा रचना ( विषय- मुक्तक)

*स्वरचित मुक्तक*

जिंदगी में अभी ख्वाब अधूरा है।
पल पल का अभी हिसाब अधूरा है।।
सब कुछ कहाँ सीख लिया हूँ ए जिंदगी।
अभी कई प्रश्नों का जवाब अधूरा है।।

मौत के आग़ोश में सोने से पहले।
इस लोक को छोड़ उस लोक का होने से पहले।।
कर्म के रास्ते बना राष्ट्र के काम आना है।
क्योंकि इस भूमि के कर्ज बाकी है मरने से पहले।।
*प्रकाश कुमार मधुबनी"चंदन"*

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें