बुधवार, 14 अक्तूबर 2020

कवि डॉ.राजेश कुमार जैन जी द्वारा रचना “श्री हरि"

सादर समीक्षार्थ
 विषय   -          श्री हरि 
विधा   -.            हाइकु 



1.              श्री हरी नाम
              जगत में है सच्चा
                बाकी है मिथ्या 

2-.               श्री हरि नाम
               भज ले मेरे प्यारे
                      होगा उद्धार
 
 3   -.            श्री प्रभु ही हैं
                   अंतिम सत्य यहाँ
                          बाकी फरेब

 4   -               श्री हरि कृपा
                 से होगा ही उद्धार
                    निश्चित तेरा 

5     -       प्रभु बिन न
            कोई भी जग में है
                  पालनहार
 
6   -              भवसागर
                पार करा दो नैया  
                मेरे श्री हरी  

7                श्री हरि तुम्हें
              नमन करूँ रोज
                कार्य सँवारो 


डॉ. राजेश कुमार जैन
 श्रीनगर गढ़वाल
 उत्तराखंड

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें