शुक्रवार, 23 अक्तूबर 2020

कवयित्री सविता मिश्रा जी द्वारा 'आरजू' विषय पर रचना

मंच नमन 
बदलाव मंच (राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्रीय मंच) 
दिनांक - 22-10-2020 
शीर्षक - आरजू 
विधा - गीत 

चंदा रे...... चंदा रे...... चंदा रे........ 

कभी तो तू जमीन पर आ, बातें करेंगे मिल बैठ के l
तू क्यों इतना मुझ से दूर रे, आ जा मेरे पास रे, 
साथ रहेंगे मिल  के l1l
चंदा रे..... चंदा रे.... चंदा रे....... 

सब कुछ मेरे पास रे, एक तू ही नहीं मेरे पास रे l
आ जा तुम भी अब मेरे पास रे, 
रहेंगे साथ-साथ रे l2l

चंदा रे.... चंदा रे.... चंदा रे.......

लगता है तू मुझ से उदास रे, 
तेरे बिन सब कुछ होते हुए कुछ भी नहीं मेरे पास रे l
क्यों इतना मुझ से नाराज रे l3l

चंदा रे... चंदा रे..... चंदा रे.... 
सविता मिश्रा 
(शिक्षिका, समाजसेविका और कवियत्री ) 
वाराणसी उत्तर प्रदेश 
स्वरचित और मौलिक रचना

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें