सोमवार, 21 सितंबर 2020

कवयित्री कंचन जयसवाल जी द्वारा रचना

चलो हाथों में हाथ लिए फुरसत से बैठे कहीं पर 
रेत की तरह हर पल फिसलता चला गया
कुछ पल बचे है जिंदगी के
जिन्हें हम जी ले फिर से
जिम्मेदारी और कर्तव्य की डोर पकड़े पकड़े
ना जाने कब हम आ गए तीसरे पड़ाव पर
आईने में सर की सफेदी देखी तो लगा
चलो खुशियों के पल चुराए कहीं से
और फुरसत से बैठे कहीं पर
शाम तो हर रोज होती है
पर दिल करता है यह शाम यहीं रुक जाए
और चांद कहीं छुट्टी पर चला जाए
हम दोनों हाथों में हाथ लिए
इस सांझ को निहारते रहे
चलो खुशियों के पल चुराए कहीं से
और फुरसत से बैठे कहीं पर

कंचन जयसवाल
नागपुर महाराष्ट्र

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें