मंगलवार, 29 सितंबर 2020

निर्दोष लक्ष्य जैन जी द्वारा रचना

लो आज हमने फिर ये तराना     लिख  दिया 
      ये    भारत    चमन    हमारा      लिख  दिया 
      सर्व धर्म   यहाँ         बसेरा       लिख  दिया 
      ना हिंदू सिख ईसाई मुसलमान    लिख दिया 
      है प्राणों से प्यारा    हिंदुस्तान    लिख   दिया 
      गंगा की धारा जमुना   किनारा     लिख   दिया 
      हिमालय के सौंदर्य का नजारा     लिख  दिया 
      लो आज हमने फिर ये  तराना      लिख  दिया 
      मथुरावृंदावन गोकुल का नंदलाल  लिख दिया 
      राधा मोहन का   अफसाना          लिख दिया 
     भोले का बाबाधाम काशी विश्वनाथ लिख दिया 
      राम की अयोध्या का नजारा        लिख दिया 
      स्वर्ग से सुंदर भारत  हमारा         लिख दिया 
      बच्चा बच्चा   देश    का दिवाना    लिख दिया 
      जय जवान जय किसान का नारा  लिख दिया 
     लो आज "लक्ष्य"  फिर ये  तराना  लिख दिया 
      विजयी विश्व तिरंगा  हमारा         लिख दिया 

                          निर्दोष लक्ष्य जैन 
                               धनबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें