रविवार, 6 सितंबर 2020

कवयित्री आ.सुशीला साहू जी द्वारा बेहतरीन रचना, लाकडाउन में शिक्षक की स्थिति .......

*प्रतियोगिता हेतु मेरी रचना*
बदलाव मंच को नमन करती हूँ ,बदलाव मंच की ये नयी पहल बहुत ही सराहनीय है ।
दिनाँक - 05/09/2020
विषय - *लाकडाउन में शिक्षक की स्थिति*

*कविता*
सभी शिक्षण संस्थानों में अभी
लाकडाउन के कारण बंद है ।
सन्नाटे शहर सन्नाटे गाँव सारा
घर में रहना सबको रजामंद है ।।

विषय वस्तु से पढ़ाई के लिए
विद्यार्थी विद्या अर्जन करते ।
खेलना कूदना बाल लीला छोड़कर
मोबाइल और इंटरनेट खोलते ।।

आनलाइन कक्षा संचालित कर
शासन ने एक तकनीक चलाई ।
सरकारी योजना सबके लिए है
घर बैठ बच्चों करो अब पढ़ाई ।।

शिक्षक अपना दायित्व को लेकर
नित आनलाइन निभाया करता है ।
कोरोना काल में भी आफलाइन
जाकर मुहल्ला में पढ़ाया करता है ।

विश्व के सभी मुल्कों में है कोरोना
चप्पे-चप्पे में वह कहर बरसाया ।
बच्चे बूढ़े और जवान के ऊपर
यह महामारी घर-घर में समाया ।।

बच्चों को सुविधा है ये सरकारी
बह रही घर-घर शिक्षा की धारा ।
आओ हम सब मिल कर लगा लें 
आनलाइन आफलाइन का नारा ।।

*सुशीला साहू "विद्या'*
*रायगढ़ - छत्तीसगढ़*

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय श्री 💐💐💐💐

    जवाब देंहटाएं
  2. आद0 मिस आपने बहुत ही शानदार सृजन किया है
    आपको बहुत बहुत बधाई
    बहुत बहुत आभार

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना बेहतरीन कविता ����������������������������������������

    जवाब देंहटाएं